What money cannot buy ???

You can buy a big house with money,
but you cannot buy a home.

You can buy a luxurious bed with money,
but you cannot buy sleep.

You can buy delicious food with money,
but you cannot buy an appetite.

You can buy expensive medicines with money,
but you cannot buy health.

You can buy costly watches with money,
but you cannot buy time.

You can gather people around you with money,
but you cannot buy friendship and love.

You can buy all the things you need with money,
but you cannot buy happiness.

Amol Dixit- Life Coach

क्षमा

क्षमा का अर्थ है नकारात्मक भावनाओं को सकारात्मक दृष्टिकोण में बदलना। यह दूसरों के लिए भलाई की कामना करने की बढ़ी हुई क्षमता की प्रक्रिया है।

किसी अनचाही घटना के जिम्मेदार व्यक्ति को जिम्मेदारी से मुक्त करना, क्षमा करने वाला कार्य है।

क्षमा बिना शर्त होती हैं; यह बिना किसी अपेक्षा के प्रदान की जाती है और मांगा जाती है। किसी भी रिश्ते में, रिश्ते को बनाए रखने में माफी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

मनुष्य गलती करने के लिए प्रवृत्त होता है। क्षमा उन गलतियों पर ध्यान केंद्रित करने में मदद करती है, न कि किसने उन गलतियों को किया। जब हर कोई क्षमा के लिए परस्पर दृष्टि रखता है, तो यह एक लंबे रिश्ते में विकसित होता है।

अध्ययनों से पता चलता है कि जो लोग क्षमा करते हैं वे क्रोध करने वालों की तुलना में अधिक खुश और स्वस्थ होते हैं।

  • जितने अधिक क्षमाशील लोग होते हैं, वे उतनी ही कम बीमारियों से पीड़ित होते हैं। कम क्षमा करने वाले लोगों ने अधिक संख्या में स्वास्थ्य समस्याओं की सूचना दी।
  • क्षमा करने वाले लोग कम क्रोधित होते हैं, कम आहत महसूस करते हैं, अधिक आशावादी, दयालु और आत्मविश्वासी होते हैं।

क्षमा एक विकल्प है, भले ही उस चुनाव को करने में लंबा समय लगे।

प्रक्रिया के दौरान व्यक्ति नकारात्मक भावनाओं को महसूस कर सकता है। जब क्षमा की प्रक्रिया पूरी हो जाती, तब व्यक्ति क्रोध जैसी नकारात्मक भावनाओं की जगह सहानुभूति और करुणा जैसी सकारात्मक भावनाओं को महसूस करता हैं।

क्षमा स्थिति को नया अर्थ दे सकती है। यह बातचीत में सुधार कर सकता है और दोनों लोगों के लिए सुलह को बढ़ावा दे सकता है (एक क्षमा मांगनेवाला और दूसरा क्षमा करने वाला)।

क्षमा के परिणाम, जिनका समग्र कल्याण पर प्रभाव पड़ता है, उनमें शामिल हैं:

  • सकारात्मक सोच की बहाली;
  • रिश्तों की बहाली
  • चिंता में कमी;
  • मजबूत एकाग्रता;
  • आत्म-सम्मान बढ़ाया;
  • आशा की एक बड़ी उम्मीद और;
  • नकारात्मक प्रभाव और लक्षणों में कमी;
  • तनाव से निपटने और राहत पाने की क्षमता में वृद्धि।

सुखी और समृद्ध जीवन के लिए व्यक्ति को क्षमा करने की क्षमता को विकसित और बनाए रखना चाहिए…✍

क्षमा अतीत को नहीं बदल सकती, लेकिन यह भविष्य जरूर बदल देती है ।

Life Coach

सुख-दुख

सुख-दुख हर जीवन के मौसम है,
जो आते जाते रहते है।

कभी कभी सुख-दुख अकेले ही आते है, पर कभी मिलके, दरवाजा खटखटाते हैं।

चाहे हम कितनी ही कोशिश क्यों न कर ले,
सुख-दुख तो आते ही रहेंगे।

डरेंगे जितना ज्यादा हम दुख से, उतना ही, वो हमे डराएगा।

बुलाएंगे जितना सुख को,
उतना ही, वो अकड़ दिखायेगा।

फिर क्यों न इन्हे एक समान मान,
जो आया, उसे मुस्कुराते हुए अपनाए।

आओ दोस्तो,
सुख में भी,
और दुख में भी,
खुशियां मनाएं, खुशियां मनाएं।।।

Life Coach

Balanced Life

Once I saw gymnasts performing artistic gymnastics. I was very impressed with the balance of all gymnasts.

Therefore, I went to the coach and asked him about the secret of that balance. He told me that one could achieve it through proper training and regular practice with dedication.

His answer enlightened me. I kept on thinking about bringing that balance into my life.

Every human-beings life is different. It consists of many aspects: personal life, professional life, and social life.

We need to maintain balance in life for a happy and prosperous life.

When we are living with balance in life, we are living with peace and harmony every day. Balance comes in physical forms, emotional forms, and a spiritual form.

A balance leads to a happy and contented life; it ensures our growth as an individual and secures our mental peace and well-being.

Here is how to balance life:

Subscribe to get access

Read more of this content when you subscribe today.

The different aspects of a balanced life include:

  1. Physical balance :

Focus on a healthy lifestyle by exercising and eating right is great for our body. Our body is very precious. We need it for our existence in this world. A healthy body helps us to live our life to the fullest.

Here are some tips for physical balance:

Subscribe to get access

Read more of this content when you subscribe today.

2. Mental balance:

Mental balance means having a positive outlook (https://ables.in/2018/09/12/positive-attitude/), focusing on good habits, and lowering stress. Your proper thought process helps you to maintain your mental health. Reading good books will help in our mental balance ( https://ables.in/2020/07/24/stress-management/).

3. Emotional Balance :

Emotional balance occurs when we allow ourselves to feel whatever comes into our life; without feeling stifled or overwhelmed and learn to accept our feelings without judgment. 

Try to develop your emotional intelligence to achieve emotional balance in your life (https://ables.in/2018/06/01/importance-of-eq-emotional-intelligence-2/)

4. Social Balance :

We all are social living beings. For social balance, we need to develop our interpersonal skills. It will help you in living harmoniously in society (https://ables.in/2019/12/08/moral-education/). 

5. Work/Financial :

Work-life balance describes the balance that a working-individual needs between time allocated for work and other aspects of life. Areas of life other than work-life can include personal interests, family, and social or leisure activities.

Steps for work-life balance :

Subscribe to get access

Read more of this content when you subscribe today.

The components of work-life balance:

Subscribe to get access

Read more of this content when you subscribe today.

6. Spiritual balance :

It is the most neglected aspect of today’s life. Being spiritual is different from being religious. Spiritual balance means to be in regular contact with self by inner peace and meditation ( https://ables.in/2020/04/07/meditation/).

If we focus too much on one area, then we risk neglecting another one.

It’s an art; we must master it for a balanced life.

One can achieve balance in life through continuous learning, training, and proper guidance…✍️

जीना इसी का नाम है !!!

I want this…I don’t have this….I would be happy if I am rich.….I will be happy if I am famous…I will be happy only if I have more things than her/him…..

अगर आप इस चक्रव्यू में फसे हो तो थोड़ा सोचिए…सब मिलने के बाद भी क्या हम खुश होंगे ???…..and answer will be definitely ‘No’…It is true…believe me…no worldly thing can make you happy….or.. the happiest people on the earth would have been the richest, powerful, or famous people….but it is not so….

Happiness lies in accepting what we have rather than what we want….it comes from inner self….Think what you have rather than what you don’t have…..If you go around you will see people struggling to meet their daily needs…..but still smiling…and we, though have so much…always stressed up…..

आख़िर क्यों ???…शायद हमने सब सिखा पर जीना भूल गए है…it’s time to go back to basic…rejuvenate the child in you who was happy in small things…जिसकी एक हसीं से पूरा घर खिलखिला उठता था…पर अभी…we bring home all the worldly tensions with us…और हमें उदास देखकर हमारे अपने भी उदास हो जाता हैं।

जबकि, हमारे होनेसे किसीको खुशी मिले, किसीकी प्यारीसी मुस्कान खिल उठे ।…

हमें सिर्फ लेना ही नहीं है बल्कि देना भी सीखना जरूरी है, किसीने सच कहा है…Happy people are givers and not takers…happiness multiply if you share it with others…..

download (1)

सोचना आपको है !!!

जाते जाते एक प्यारासा गीत –

किसी की मुस्कुराहटों पे हो निसार,
किसीका दर्द मिल सके तो ले उधार,
किसीके वास्ते हो तेरे दिल में प्यार
जीना इसी का नाम है !!!

Amol Dixit (ABLES Life Coaching)