सुख-दुख हर जीवन के मौसम है,
जो आते जाते रहते है।

कभी कभी सुख-दुख अकेले ही आते है, पर कभी मिलके, दरवाजा खटखटाते हैं।

चाहे हम कितनी ही कोशिश क्यों न कर ले,
सुख-दुख तो आते ही रहेंगे।

डरेंगे जितना ज्यादा हम दुख से, उतना ही, वो हमे डराएगा।

बुलाएंगे जितना सुख को,
उतना ही, वो अकड़ दिखायेगा।

फिर क्यों न इन्हे एक समान मान,
जो आया, उसे मुस्कुराते हुए अपनाए।

आओ दोस्तो,
सुख में भी,
और दुख में भी,
खुशियां मनाएं, खुशियां मनाएं।।।

Life Coach

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s